नवप्रवर्तन केंद्र

नवप्रवर्तन केंद्र

नवप्रवर्तन केंद्र क्या है ?

नवप्रवर्तन केंद्र ऐसे स्थान हैं जो युवाओं में जिज्ञासु दृष्टिकोण विकसित करने एवं नए विचारों को पोषित करने की सुविधा प्रदान करते हैं। राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद द्वारा विकसित नवप्रवर्तन केंद्र युवाओं को रचनात्मक एवं नवाचार के कार्यों में संलग्न रखेगी। ये केंद्र नए विचारों एवं नवाचार को आगे बढ्ने की प्रेरणा देंगे और इस प्रकार बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण समाज एवं अर्थव्यवस्था को भविष्य में आने वाली चुनौतियों का सामना करने में मदद करेंगे। विशेषकर, इन नवप्रवर्तन केन्द्रों के माध्यम से विज्ञान शिक्षा के क्षेत्र में रचनात्मकता बनी रहेगी जिससे आधुनिक विज्ञान में प्रतिभाओं को बनाए रखा जा सकेगा।

नवप्रवर्तन केंद्र पर सुविधाएं:

  1. आविष्कार कक्ष (डिस्कवरी हाल):
    इस क्षेत्र में 10-15 संवादमूलक विज्ञान प्रदर्श/परीक्षण जो अन्वेषन और अंतर्निहित सिद्धांतों की खोज द्वारा विज्ञान में रुचि जागृत करेंगे। इससे तार्किक सोंच को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।
  2. नवप्रवर्तन संसाधन केंद्र एवं कीर्ति कक्ष (हाल ऑफ फ़ेम):
    इस स्थान में वैसे नवीन विचार/उत्पाद/सामग्री संबन्धित आविष्कारक एवं परावर्तकों के साथ प्रदर्शित किया जाएगा, जिन्होने दुनिया को बदल दिया या हमारी जीवन शैली पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है। यथोचित साधनों के माध्यम से उन आविष्कारों/नवाचारों के पीछे की कहानियाँ/प्रेरणाओं को प्रदर्शित किया जाएगा। इसके अलावा, विभिन्न सामग्री/यथोचित तकनीकी नमूने/आविष्कार, पारंपरिक ज्ञान व्यवस्था, कला एवं शिल्प और दैनिक जीवन में आवश्यक अन्य क्षेत्र भी प्रदर्शित किए जाएंगे।
  3. अवधारणा प्रयोगशाला (आइडिया लैब): इस प्रयोगशाला में रचनात्मकता शौक/गतिविधियों को बढ़ाने के लिए आवश्यक बुनियादी सुविधाएं यथा मोडेल बनाना, बुनियादी विज्ञान प्रयोग, व्यावहारिक उपयोग में आने वाले उपकरणों की डिज़ाइन एवं निर्माण, बेहतर कक्षा समन्वय के लिए शिक्षण किट्स, मिट्टी, पानी एवं खाद्य पदार्थ के नमूनों की जांच जैसे बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।
    1. तोड़, फोड़, जोड़ कोना: यहाँ विद्यार्थी अपने हाथों से उपकरणों को तोड़ कर पुनः उन्हे जोड़ना सीखेंगे।
    2. कबाड़ से जुगाड़ कोना: यहाँ विद्यार्थी दैनिक जीवन में फेंक दिये जाने वाले कबाड़ से वस्तुओं के निर्माण का तरीका सीखेंगे।
    3. अवधारणा बक्सा (आइडिया बॉक्स): यहाँ विद्यार्थी अपने नवप्रवर्तन की अवधारणा को प्रदर्शित कर एक अवधारणा बैंक का निर्माण करेंगे। उनमें से सर्वोत्तम अवधारणा को प्रयोग/मोडेल निर्माण/प्रोजेक्ट कार्य हेतु चयनित किया जाएगा।
  4. परिरूप कक्ष (डिज़ाइन स्टुडियो): यह कक्ष विभिन्न वस्तुओं एवं उत्पादों के निर्माण हेतु रचनात्मक वातावरण प्रदान करेगा।

 

विज्ञान के क्षेत्र में नवप्रवर्तन, रचनात्मकता एवं संलग्नता को बढ़ावा देने हेतु योजना: (SPICES):

नवप्रवर्तन केंद्र स्थापित करने के उद्देश्य से अनुदान देने की योजना है। विस्तृत जानकारी के लिए कृपया नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें:

 

योजना की विस्तृत जानकारी देखें

नवप्रवर्तन केन्द्रों की सूची:

  1. बिड़ला औद्योगिक एवं प्रौद्योगिक संग्रहालय, कोलकाता में नवप्रवर्तन केंद्र

    Birla Industrial & Technological Museum under National Council of Science Museums, Ministry of Culture, Govt. of India inaugurated the innovation centric science laboratory ‘Innovation Hub’ on Friday, August 23, 2013. The ‘Innovation Hub’ is a 2000 sq.ft. Science laboratory for high school (classes VI to XII) and College students where they are engaged in creative and innovative activities. The underlying ides is to promote critical thinking and problem solving ability through hands on activity. The broad sections of Innovation Hub are ‘Hall of Fame: Innovators and Inventors’, ‘Innovative Resource Centre’, ‘Innovation Laboratory’ and ‘Tech Lab: Robotics and Microprocessor Programming Facility’. Read More

  2. विश्वेश्वरया औद्योगिक एवं प्रौद्योगिक संग्रहालय, बेंगलुरु में नवप्रवर्तन केंद्र

    ‘Innovation Hub’- A new Resource Centre and Innovation Hub to encourage innovative activities among students was inaugurated on 5th December 2013 by Dr. Kiran Mazumdar Shaw, Chairman & Managing Director, Biocon Limited, Bangalore in the presence of Shri. Ramji Raghavan, Chairman, Agastya International Foundation. The Resource Centre is equipped with multimedia on various topics and the Innovation Hub provides opportunity for students to experiment and develop their ideas in to applications on aspects of science. The Centre is attracting large number of students who are working on different projects in science. 300 students, teachers and general public attended the inaugural programme. Read More

  3. राष्ट्रीय विज्ञान केंद्र, दिल्ली में नवप्रवर्तन केंद्र

    The Innovation hub was inaugurated by Shri Sam Pitroda, Chairman, National Innovation Council in the presence of Shri K K Mittal, Additional Secretary, Ministry of Culture, Govt. of India along with distinguished members of the National Innovation Council on Thursday, the 23rd January, 2014. While delivering the keynote address, Shri Sam Pitroda announced that the National Innovation Council along with the Ministry of Culture and the Planning Commission is working on a scheme to launch 100 such innovation hubs across the country. He suggested that all Science Centres must engage with the local community and must create local ecosystems to own, support and nurture these innovation hubs. Shri Sam Pitroda interacted with students/teachers in the auditorium of the Centre. This facility will provide a unique opportunity for children of various age groups to work at the Centre during the week-ends to develop their ideas on various aspects of Science & Technology. Read More

  4. क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र, गुवाहाटी में नवप्रवर्तन केंद्र

    Regional Science Centre, Guwahati is the fourth Unit in the country under the National Council of Science Museums, to launch an Innovation Hub at the Centre’s premises. This new facility was inaugurated by Ms Sindhushree Khullar, Secretary, Planning Commission, Govt. of India in the presence of Dr. Mridul Hazarika, Vice Chancellor, Gauhati University, Dr. Anil Kr. Goswami, Former Principal Cotton College and Prof. Uddhab Kr. Bharali, Eminent Scientist on 4th February, 2014. Read More

  5. नेहरू विज्ञान केंद्र, मुंबई में नवप्रवर्तन केंद्र

    Innovation Hub, a new facility, the first-of-its-kind in the western part of India, aimed at supplementing formal school education and seeking new ways to bring innovative science teaching and experiences to students, was inaugurated at the Nehru Science Centre on February 24 by R Gopalakrishnan, member, National Innovation Council and director, Tata Sons. Read More